Contentment is like Nandan Vana. If a man cultivates contentment, he finds the same peace; he would get in Nandan Vana.
Contentment is Like Nandan Vana
संत्तोष नंदन वन के समान है। मनुष्य इसे अपने में स्थापित कर ले तो उसे वही शांति मिलेगी जो नंदन वन में रहने से मिलती है।
“Santosh nandan van ke samaan hai. Manushya isey apne me sthapit kar le to usey wahi shanti milegi jo nandan van me rehne se milti hai”.