Instead of flying if we bend, we are much closer to wisdom.
Instead of Flying If We Bend
उड़ने की अपेक्षा जब हम झुकते हैं तब विवेक के अधिक निकट होते हैं।
“Udne ki apeksha jab hum jhukte hain tab vivek ke adhik kareeb hote hain”.