Paramartha is the higher form of self. Paraaartha needs sacrifice but this is a huge investment that never incurs losses.
Paramartha is The Higher Form of Self
उच्चस्तरीय स्वार्थ का नाम ही परमार्थ है। परमार्थ के लिये त्याग आवश्यक है पर यह एक बहुत बडा निवेश है जो घाटा उठाने की स्थिति में नहीं आने देता।
“Uchhstariya swaarth ka naam hi parmaarth hai. Parmarth ke liye tyaag aavashyak hai par yah ek bahut bada nivesh hai jo ghaata uthaane ki sthiti me nahi aane deta”.