We laugh at the jokes cracked on others but forget even to cry when the joke is cracked on us.
The Satire on Others
दूसरों पर किए गए व्यंग्य पर हम हँसते हैं पर अपने ऊपर किए गए व्यंग्य पर रोना तक भूल जाते हैं।
~ रामचंद्र शुक्ल
“Doosron par kiye gaye vyangon par hum haste hain par apne upar kiye gaye vyangya par rona tak bhool jate hain”.
– Ramchandra Shukla