Time is a wealth of change, but the clock in its parody makes it mere change and no wealth.
Time is a Wealth of Change
समय परिवर्तन का धन है। परंतु घड़ी उसे केवल परिवर्तन के रूप में दिखाती है, धन के रूप में नहीं।
~ रवींद्रनाथ ठाकुर
“Samay parivartan ka dhan hai, parantu ghadi usey keval parivartan ke roop me dikhati hai, dhan ke roop me nahi”.
– Rabindranath Thakur